चाहत शायरी

शायरी – जो पल गुजारे हमने तेरी याद में

बेदर्द ये रातें और हिज्र के मौसम खुद पर खामोशी से मनाते हैं मातम दिल में उठा अभी आंसू के तूफां नजरों के रहगुजर में आया है सावन

love shyari next

बेदर्द ये रातें और हिज्र के मौसम
खुद पर खामोशी से मनाते हैं मातम

दिल में उठा अभी आंसू के तूफां
नजरों के रहगुजर में आया है सावन

बस्ती में कहीं पर निशां नहीं तेरा
हम ढूंढ़ रहे हैं कबसे तेरा आंगन

जो पल गुजारे हमने तेरी याद में
हर पल मिला है तेरे दर्द का दामन

हिज्र- जुदाई

©RajeevSingh # love shayari

Advertisements

Leave a Reply