हीर रांझा – 13 – रांझे पर मर मिटी हीर

love shayari hindi shayari

हीर ने कहा, ‘मैं तुम्हारी खिदमत में हमेशा रहूंगी, रांझे और मेरी दासियां तुम्हारा हुक्म बजाएंगी। चार आंखों और होठों के मिलन के लिए जंगल से बेहतर और कौन जगह हो सकता है? इश्क की मंजिल तो दो प्रेमियों का मिलन है। खुदा ने मुझे आशिक के रूप में तुमको दिया है और मैं रिश्ते-नाते-दुनिया सबको भूल चुकी हूं।’

रांझा ने जवाब दिया, ‘हीर, तुम तो अपनी सखियों के साथ मौज करोगी और मैं तुम्हारी हवेली में उदास अकेला भटकता रहूंगा। कोई मुझ पर ध्यान नहीं देगा। मुझसे छल मत करो। अगर तुम सच्ची हो तो अपनी बात याद रखना। अजनबी को सहारा देकर एक दिन मुंह मत फेर लेना।’

हीर ने जवाब दिया, ‘मैं कसम खाती हूं रांझे कि अगर मैंने तुमको धोखा दिया तो खुदा मुझसे मेरे मां-बाप छीन ले। तुम्हारे बगैर मैं खाने की तरफ नजर तक नहीं उठाऊंगी। मैं अपना प्यार तुम्हारे सिवा और किसी को नहीं दूंगी। अगर मैं तुम्हारे सिवा और किसी को अपना पति चुनूं तो मैं अंधी हो जाऊं।’

रांझा ने फिर कहा, ‘हीर, इश्क का रास्ता बहुत मुश्किल है। मेरा दिल उलझन में है। इश्क तलवार से भी ज्यादा खौफनाक है, जहरीले सांप के विष से भी ज्यादा जहरीला है। मुझसे वादा करो कि तुम सच्ची हो तो।’

हीर रांझा को सच्चे प्यार का यकीं दिलाकर अपने पिता चूचक के पास ले आई। पिता के सामने हीर रांझा के ठीक बगल में खड़ी हुई।

हीर पिता से बोली- मेरे अब्बू, आपके खातिर मेरी जान भी चली जाए तो कम है। आपकी छांव में रहकर मैं इतनी खुश जिंदगी जी रही हूं। मैंने आपके लिए एक चरवाहा खोजा है जो हमारे भैंसों की देखभाल कर सकता है। कहानी आगे पढ़ें-

कहानी शुरू से पढ़ें

कहानी के पन्ने
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 33 34

Advertisements

One thought on “हीर रांझा – 13 – रांझे पर मर मिटी हीर”

  1. खूबसूरत ;
    दोस्तो हमे बुरा ही रहने दो
    वरना Aache लोगो को तो भगवान भी उठा लेते है

Leave a Reply