शायरी- जिनको तन्हाई का सहारा है

prevnext

जिनको तन्हाई का सहारा है
उनके सीने में दिल हमारा है

चुन लिया हमने गम के कांटे
मेरे आंगन का फूल तुम्हारा है

मेरी आंखों में झांककर देखो
यहां सागर का दो किनारा है

ये हाथों की लकीरें नहीं हैं
आंसुओं की सूखी धारा है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari