शायरी – तेरी नजरों में जब समाया तो

love shyari next
क्या हुआ होश में न आया तो
तेरी नजरों में जब समाया तो
नहीं आ सकता मैं तेरे घर में
तूने छत पे मुझे बुलाया तो
लो उठा दर्द भी मेरे सीने में
अभी सीने से तुझे लगाया तो
मैं भटकता जा रहा था कहीं
तूने मंजिल मुझे दिखाया तो

©RajeevSingh