आशिक शायरी जख्मी दिल शायरी

शायरी – जिसके दिल में कांटे हों

#100 दर्द शायरी

दर्द में हम जीते-मरते हैं

सबसे हंसकर मिलते हैं

 

जिसके दिल में कांटे हों

वहीं तो गुलाब खिलते हैं

 

वो आग लगाकर जाती है

दीये खामोशी से जलते हैं

 

  1. जबसे तुम मेरे दिल के गुलाब बन गए
  2. ताउम्र तेरे इश्क में मरने की दुआ दे
  3. इस दिल को ये मंजूर है, तू खुश रहे हर हाल में
Advertisements

Leave a Reply