शायरी – मेरे इतना दिल जलाया न कोई

# 100 मुहब्बत शायरी

खुश रहता हूं अपनी उदासी में

मेरी तन्हाई का बहाना है यही

मैं ताउम्र रोशनी को तरसता रहा

मेरे इतना दिल जलाया न कोई

Advertisements

One thought on “शायरी – मेरे इतना दिल जलाया न कोई”

Leave a Reply