शायरी- उल्फत में जान निकल जाए

prevnext

गिरके ना ये फिर संभल जाए
उल्फत में जान निकल जाए

रूह का दीपक तो जला
ये जिस्म चाहे पिघल जाए

मर्जी हो तेरी तो आ जाओ
मेरा आशियां ये बदल जाए

कश्ती समंदर में कैसे रूके
किनारे से जो फिसल जाए

©RajeevSingh