खुदाई शायरी- तेरी बंदगी अब तेरी गली में

prevnext

मेरी जिंदगी अब तेरी गली में
तेरी बंदगी अब तेरी गली में

तेरे शहर में भटका बहुत हूं
ये आवारगी अब तेरी गली में

दिल से नजर तक तू छा गई
खोजूं मैं खुद को तेरी गली में

तू मेरे ख्वाबों की कमसिन परी
देखता हूं तुझे मैं तेरी गली में

©RajeevSingh

Advertisements