शायरी – न आखिरी ख्वाहिश है बची

#100 दर्द शायरी

न आखिरी ख्वाहिश है बची

न आखिरी तमन्ना है कोई

 

बेखुदी में कटे ये दर्दे-सफर

राह में बेदर्द मिले न कोई

  1. वो गज़ल है जो मिली है कोरे कागज़ को
  2. अश्कों में डूबता हुआ जलता हुआ दिल है
  3. दिल के मसले पे न बनिए खुदगर्ज़ सनम
  4. जिस अज़नबी ने मुझको तलबगार किया है
Advertisements

कमेंट्स यहां लिखें-

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.