दर्दे दिल शायरी

शायरी – जाने किन रास्तों पर मेरे सपने भटक गए

शायरी जाने किन रास्तों पर मेरे सपने भटक गए सदियों की तलाश में लम्हें भटक गए ऐ रकीब, मेरे दिलबर का ख्याल रखना अपनी तन्हाई में हम अब खुद में भटक गए

love shayari hindi shayari

जाने किन रास्तों पर मेरे सपने भटक गए
सदियों की तलाश में लम्हें भटक गए

ऐ रकीब, मेरे दिलबर का ख्याल रखना
अपनी तन्हाई में हम अब खुद में भटक गए

मुसीबत में जब-जब मेरी जिंदगी पड़ी
जाने किधर मेरे यार और अपने भटक गए

एक मैं नहीं हूं, हर दिल है यहां बीमार
देखो तो कितने लोग तेरे गम में भटक गए

©RajeevSingh #love shayari

Advertisements

Leave a Reply