शायरी – वो सामने बैठी है चाय की दुकान में

new prev new next

हम इधर खड़े हैं किराए के मकान में
वो सामने बैठी है चाय की दुकान में

सोचता हूं कभी उनकी राह रोक लूं
डर है कि पहुंच न जाऊं श्मशान में

इशारा तो करता हूं मगर देखती नहीं
कैसे कहूं कि मिलो बगल के बगान में

कोई नहीं आई है अब तक जिंदगी में
यही दर्द रहता है दिल ए परेशान में

(अपने मुहल्ले में बगान यानि पार्क के बगल में चाय की दुकान से प्रेरित गजल)

©rajeevsingh

Advertisements

2 thoughts on “शायरी – वो सामने बैठी है चाय की दुकान में”

  1. Ak din humse juda ho jaoge yaro, kuchh din bad hme bhul jaoge yaro, jo sath gujare the lumhe humne, bhala kaise use bhul paoge yaro.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.