शायरी – मेरी खातिर तेरा रोना मुझे अच्छा न लगा

new prev new next

मेरी खातिर तेरा रोना मुझे अच्छा न लगा
खुद को आंसू में भिगोना मुझे अच्छा न लगा

प्यार के टूटे बिखरे हुए कतरों को चुनकर
दिल में यूं दर्द पिरोना मुझे अच्छा न लगा

कभी भी मेरा जी ठीक से बहला न सका
तेरी मोहब्बत का खिलौना मुझे अच्छा न लगा

ये गहरी उदासी जब जब तेरी सूरत में देखा
तब अपना आईना सलोना मुझे अच्छा न लगा

©RajeevSingh

कमेंट्स यहां लिखें-

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.