जख्मी दिल शायरी

शायरी – अब किसी दगाबाजी से दिल नहीं दुखता

शायरी अब किसी दगाबाजी से दिल नहीं दुखता कई बार खाए धोखों का हुआ असर सा है

new prev new shayari pic

जाने किसके लिए जमाने के बाद तरसा है
आसमा आज रो रो कर बेपनाह बरसा है

मैं अभी झील हूं, बरसाती नदी न बन जाऊं
मेरे शहर के बाशिंदों को हो गया डर सा है

वह बार बार एक दरवाजे से लौट जाता है
भले बुलाती है वो कि आ ये तेरे घर सा है

अब किसी दगाबाजी से दिल नहीं दुखता
कई बार खाए धोखों का हुआ असर सा है

©rajeev singh shayari

Advertisements

Leave a Reply