दोस्ती शायरी

friendship day shayari फ्रेंडशिप डे शायरी

Jab Jab Gira Jindagi Me Tune Mujhe Sambhala Meri Har Haar Ko Tune Jeet Me Badal Dala Tu Jabse Hamsafar Dost Bankar Aaya Hai Tere Jaisa Aur Koyi Nahi Ab Tak Paya Hai

जब जब गिरा जिंदगी में तूने मुझे संभाला
मेरी हर हार को तूने जीत में बदल डाला
तू जबसे हमसफर दोस्त बनकर आया है
तेरे जैसा और कोई नहीं अब तक पाया है

Jab Jab Gira Jindagi Me Tune Mujhe Sambhala
Meri Har Haar Ko Tune Jeet Me Badal Dala
Tu Jabse Hamsafar Dost Bankar Aaya Hai
Tere Jaisa Aur Koyi Nahi Ab Tak Paya Hai

मैं खुशनसीब हूं कि तेरे जैसे वफादार मिला
जो मेरी खातिर जान भी देने को तैयार मिला
हजारों आदमियों से मैं मिल चुका हूं लेकिन
तुम्हारे जैसा मुझे कहां कोई दूसरा यार मिला

Mein Khushnasib Hun Ki Tere Jaisa Wafadar Mila
Jo Meri Khatir Jaan Bhi Dene Ko Taiyaar Mila
Hazaron Aadmiyon Se Mein Mil Chuka Hun Lekin
Tumhare Jaisa Mujhe Kahan Koyi Doosra yaar Mila

दोस्ती से ज्यादा दुनिया में कुछ भी हसीं नहीं
इस रिश्ते की खातिर मेरे दिल में इबादत रहे
जिंदगी में ऐ दोस्त तुम खुशियां लेकर आते हो
दुआ है कि दोस्ती और मस्ती सदा सलामत रहे

Dosti Se Jyada Duniya Me Kuchh Bhi Hasin Nahi
Is Rishte Ki Khatir Mere Dil Me Ibadat Rahe
Zindagi Me Ay Dost Tum Khushiyan Lekar Aate Ho
Duaa Hai Ki Dosti Aur Masti Sada Salamat Rahe

Rajeevsingh shayari

Advertisements

One comment

  1. फुलो से भी क्या प्यार करना थोडी देर बाद मुरझा जाते है अरे प्यार करना है तो काँटो से करो जो चुभने के बाद भी याद आते है

Leave a Reply