शायरी – इश्क की आग में जमीं आसमां जल गया

new prev new shayari pic

मेरी जिंदगी जल गई, मेरा मकां जल गया
इश्क की आग से जमीं आसमां जल गया

तनहा दिल की चिंगारी को सुलगाता रहा
इसी कोशिश में मेरा पूरा कारवां जल गया

बगीचे को अचानक लपटों ने घेर लिया था
एक परिंदे को बचाते हुए बागबां जल गया

दहकते रहे उम्रभर होठों पे खामोश लफ्ज
उसे सहते हुए एक दिन वो बेजुबां जल गया

©राजीव सिंह शायरी

Advertisements

One thought on “शायरी – इश्क की आग में जमीं आसमां जल गया”

  1. Suna h pyaar karne wale bade ajeeb hote h
    Khushi ke badle gam naseeb hote h
    A mere dost mohhbat na kar kisi se
    kyon ki pyaar karne wale bade badnseeb hote h.meri kismat

    Like

कमेंट्स यहां लिखें-

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s