दिनभर आंसुओं को शायरी फोटो

आंसुओं को शायरी ईमेज

ये उदास रात रुला जाती है वरना
दिनभर आंसुओं को पिये जाता हूं

Advertisements

चांद न होता तो तेरी सूरत किस आईने में देखता। रात को जागते हुए उदासी और तनहाई रुलाती है। तेरी तस्वीर चूमकर गुजारा करता हूं।

Advertisements

Leave a Reply