रूह का रिश्ता शायरी फोटो

रूह का रिश्ता शायरी ईमेज

जिस अजनबी ने तलबगार किया है
उनसे मेरी रूह का रिश्ता तो नहीं

रातों में कहीं से तेरी आह आती है। तुम्हारी आहों में डूबी मेरी गजलों में तुम्हारा ही दर्द है। दिल को दिलासा है कि तुम मेरे पास हो।

Leave a Reply