याद का साया शायरी फोटो

यादों के साये शायरी फोटो

याद का साया कहीं मिलता नहीं
बेखुदी में मेरी शम्मा बुझ गई

Advertisements

तेरी यादों की रात खाक बन जाती है। जिगर के टुकड़ों से लहू बहता है और मैं खामोश दिल लिए गजल लिखती रहती हूं।

Advertisements

Leave a Reply