जुदाई के सदमे से टूट गए शायरी फोटो

जुदाई के सदमे शायरी फोटो

हम जुदाई के सदमे से इस तरह से टूट गए
ठहरे पानी में अब हरसू, दर्द की सैलाबें हैं

Advertisements

इश्क तो गुनाह है और इस गुनाह में डूबा मुजरिम एक दिन फरिश्ता बन जाता है। जालिमों की बस्ती में वह तनहा रह जाता है।

Advertisements

Leave a Reply