मोहब्बत का सागर शायरी ईमेज

मोहब्बत सागर शायरी ईमेज

तेरे दिल में बसा है मोहब्बत का सागर
मगर आंखें हैं तुम्हारी रेगिस्तां की तरह

Advertisements

तुम कितने तनहा हो। अपने घर में अपनों के बीच बेजुबां की तरह रहते हो। तेरे दिल में मोहब्बत का समंदर है।

Advertisements

Leave a Reply