कोई भी अरमान नहीं शायरी फोटो

इश्क का अरमान शायरी ईमेज

मेरी खताओं की सजा अब मौत ही सही
इसके सिवा तो कोई भी अरमान नहीं है

दिन रात की तनहाई परेशान करती है। नसीब में सबकुछ है मगर तू नहीं है। तेरे सिवा कोई भी अरमान नहीं है।

Leave a Reply