हिंदी शायरी फोटोज

ईमेज शायरी – दिले नादां को और कोई अरमान नहीं

हुस्न पैदा ही होती है, बनाई नहीं जाती बिना आशिक के उसकी कोई पहचान नहीं दीद हो जाए, इतनी सी चाहत है फकत दिले-नादां को और कोई भी अरमान नहीं

red prev shayari pic red next

दिले नादां की ईमेज शायरी
दीद हो जाए, इतनी सी चाहत है फकत
दिले-नादां को और कोई भी अरमान नहीं
Advertisements

Leave a Reply