जख्म की तस्वीर बनके रह गई शायरी फोटो

जख्म की तस्वीर शायरी फोटो

जिंदगी जख्म की तस्वीर बनके रह गई
तू मेरे दिल पे लगी तीर बनके रह गई

तुम्हारे गम में मैं दीवाना बना फिरता हूं और तू मेरे पैरों में जंजीर बनके रहती है। तेरा कैदी जिंदगी का जख्म लिए जमाने की ठोकरें खा रहा है।

Leave a Reply