किसी मुकाम पर मेरे मंजिल का निशा फोटो शायरी

प्यार की मंजिल फोटो शायरी

किसी मुकाम पर तो होगा मेरे मंजिल का निशां
तेरी उंगली थामे बिना वहां तक चल नहीं पाएंगे

जिंदगी रात को करवटें बदलती है। तेरी यादों का सावन बरसता है और दिल भीगकर तेरे धूप की तलाश करता है।

Leave a Reply