खूने जिगर के लिए मरहम इमेज शायरी

खूने जिगर पर इमेज शायरी

अश्क तो बह रहे हैं तन्हाई में जीते हुए
तू कोई मरहम बता दे खूने-जिगर के लिए

जबसे मेरा दिल तेरा आशिक हुआ है तबसे तुम्हारी हर पल की खबर के लिए बैचैन रहता हूं। मेरे दर्द का मरहम अब तू ही है।

Leave a Reply