मेरा वजूद बह गया फोटो शायरी

मेरा वजूद फोटो शायरी

एक जज्बाती नदी सागर से बिछड़ चुकी
मेरा वजूद बह गया और बच गई तन्हाइयां

Advertisements

तुमसे जुदा होकर इतना तन्हा हो गया हूं कि अपना वजूद ही खुद से दूर लगता है। तेरे करीब जाने की ये कैसी सजा है।

Advertisements

Leave a Reply