दिल की कली पे दर्द के शबनम शायरी ईमेज

दर्द के शबनम शायरी ईमेज

तन्हा सी मुसाफिर हो तुम, तेरी अदाओं में है उदासी
कोरे कागज सा सादा मन, तुम ही तो सपना हो मेरा

तेरी हसीन सूरत में खुदा का नूर है, मेरा दिल तुमपे मर मिटने को मजबूर है, ये इश्क का मेरी जान, इश्क का सुरूर है।

Leave a Reply