रातभर रोया फलक आशिक के संग फोटो शायरी

रातभर रोया फोटो शायरी

रात भर रोया फलक आशिक के संग जागकर
मैं भी दुनिया छोड़कर मातम वहीं करने गया

Advertisements

आसमान में तेरी सूरत का चांद जो खिला, उसे देखकर मैं जाने कितनी रातें जला, यूं ही चलता रहा इश्क का सिलसिला।

Advertisements

Leave a Reply