हिंदी शायरी फोटोज

ईमेज शायरी – कोई नहीं यहां अपना मेहरबां सा कोई

चाहतें मंद हैं बुझती लौ की तरह रोशनी ही नहीं तो दीपक क्या कहे कोई नहीं यहां अपना मेहरबां सा कोई तन्हाई में अब मुझसे शब क्या कहे

red prev shayari pic red next shayari image

चाहतों की फोटो शायरी
चाहतें मंद हैं बुझती लौ की तरह
रोशनी ही नहीं तो दीपक क्या कहे
Advertisements

Leave a Reply