आशिक का जनाजा ढोने शायरी फोटो

आशिक का जनाजा ईमेज शायरी

आप आ ही गए आशिक का जनाजा ढोने
आप अपने हैं, क्या देंगे हमें कांधे के सिवा

Advertisements

बहुत दूर तक मुसाफिर चला था मगर, नजर नहीं आया उस मंजिल की डगर, जहां रुककर जरा देर वह दिल को सहलाता, मोहब्बत की छांव में जरा देर सुस्ताता।

Advertisements

Leave a Reply