बह रही दर्द की दरिया शायरी ईमेज

दर्द की दरिया शायरी ईमेज

नस-नस में मेरे बह रही है दर्द की दरिया
अब खून किसी का भी पीने से मैं डरता हूं

उनको यही कहते सुनता हूं कि मेरी दीवानगी का कोई मतलब नहीं उनके लिए और इधर मेरा दिल कहता है कि एक दिन वह जरूर सुनेगी अपने दिल की।

Leave a Reply