आंखों से जुदा ईमेज शायरी

जुदाई इश्क शायरी ईमेज

आज टुकड़ों में बंटे हैं बादल की तरह
आज दरिया भी हो जाएंगे आंखों से जुदा

Advertisements

सदियों से आशिक तलबगार है तेरा, ये दिल तुमसे मिलने को बेकरार है कितना, तुम इस सवाल का जवाब नहीं देती हो, कि कब तक है हमें जुदाई को सहना।

Advertisements

Leave a Reply