शेरो शायरी

इमेज शायरी – कितने शम्मे जलाए दिल ने यादों के

ख्वाबों के तमाशों से उबर नहीं पाए हम इस मेले में खोकर यूं गुमनाम बन गए मजारों पे कितने ही शम्मे जलाए दिल ने यादों के शहर भी अब श्मशान बन गए

new prev new shayari pic

ख्वाब प्यार इमेज शायरी
ख्वाबों के तमाशों से उबर नहीं पाए हम
इस मेले में खोकर यूं गुमनाम बन गए

prev shayari green next shayari green

Advertisements

Leave a Reply