शायरी – क्या खो दिया क्या पा लिया

shayari latest shayari new

क्या खो दिया क्या पा लिया
यही सोचता उम्र बिता लिया

किसी रिश्ते में यहां सुकूं नहीं
हर किसी को आजमा लिया

अपने लिए कभी जी न सका
अपनों ने इतना उलझा लिया

बुरे हालातों में जब भी फंसा
खुदा ही था जिसने बचा लिया

shayari green pre shayari green next