heart touching Shayri

roj aankhon se tu ho to barasti hai – रोज आंखों से तू ही तो बरसती है

मेरे आंसुओं में तू ही छुपी रहती है रोज आंखों से तू ही तो बरसती है किसी गुलाब की बेटी है तू शायद इसलिए मुरझाकर भी महकती है Mere Aansuon Me Tu Hi Chhupi Rahti Hai Roj Aankhon Se Tu Hi To Barasti Hai Kisi Gulab Ki Beti Hai Tu Shayad Isliye Murjhakar Bhi Mahakti Hai

shayari latest shayari new

ख्वाहिशों की शायरी

मेरे आंसुओं में तू ही छुपी रहती है
रोज आंखों से तू ही तो बरसती है

किसी गुलाब की बेटी है तू शायद
इसलिए मुरझाकर भी महकती है

दिल के टूटे आईने में देखता हूं जब
हर टुकड़े में तेरी सूरत झलकती है

सारी ख्वाहिशों की दिलरुबा है तू
मेरी चाहत तेरी खोज में भटकती है

©राजीवसिंह                            शायरी

khwahishon ki shayari

Mere Aansuon Me Tu Hi Chhupi Rahti Hai
Roj Aankhon Se Tu Hi To Barasti Hai

Kisi Gulab Ki Beti Hai Tu Shayad
Isliye Murjhakar Bhi Mahakti Hai

Dil Ke Toote Aaine Me Dekhta Hun Jab
Har Tukde Me Teri Surat Jhalakti Hai

Sari Khwahishon Ki Dilruba Hai Tu
Meri Chahat Teri Khoj Me Bhatakti Hai

©rajeevsingh                                    shayari

shayari green pre shayari green next

 

Save

Save

Advertisements

Leave a Reply