आज़ादी शायरी

शायरी – अपने समाज में आजादी कब मिलेगी

शायरी फिरंगियों से तो आजादी मिल गई हमें अपने समाज में आजादी कब मिलेगी इस समाज के चप्पे चप्पे पर बैठें हैं जो उन ठेकेदारों से आजादी कब मिलेगी

shayari latest shayari new

फिरंगियों से तो आजादी मिल गई हमें
अपने समाज में आजादी कब मिलेगी

इस समाज के चप्पे चप्पे पर बैठें हैं जो
उन ठेकेदारों से आजादी कब मिलेगी

मुझे आगे बढ़ता देखकर जो जलते हैं
ऐसे रिश्तेदारों से आजादी कब मिलेगी

चारों तरफ इज्जत आबरू की दीवारें हैं
कैद से इश्क को आजादी कब मिलेगी

shayari green pre shayari green next

Advertisements

Leave a Reply