शायरी – हम तो किसी की आंख का काजल न बन सके

shayari latest shayari new

तुमको उदास शायरी

हम तो किसी की आंख का काजल न बन सके
अफसोस कि आशिकी में पागल न बन सके

मोहब्बत में हम भले लाख बरसकर दिखा दें
फिर भी कहेंगे वो कि हम बादल न बन सके

उतरकर चले गए वो मेरे दिल की सीढ़ियों से
हम तो उसकी जिंदगी की मंजिल न बन सके

देखता हूं उदास उसको, होता है दर्द मुझे भी
शीशे सा वजूद लेकर हम संगदिल न बन सके

©rajeevsingh                  shayri

shayari green pre shayari green next

Save

Save

Advertisements

Leave a Reply