गजल शायरी

shayari – खयालों में आकर मुझे सताया न करो

खयालों में आकर मुझे सताया न करो जलता है ये दिल और जलाया न करो कभी तो मिलने के लिए तुम आ जाओ इस तरह तन्हा मुझे छोड़ जाया न करो शायरी

shayari latest shayari new

मेरे हमसफर शायरी इमेज

खयालों में आकर मुझे सताया न करो
जलता है ये दिल और जलाया न करो

कभी तो मिलने के लिए तुम आ जाओ
इस तरह तन्हा मुझे छोड़ जाया न करो

तेरी याद में मुश्किल से आंख लगती है
यूं ख्वाबों में आकर तुम जगाया न करो

बहुत इंतजार कर चुकी हूं मेरे हमसफर
किसी और के लिए मुझे भुलाया न करो

shayari green pre shayari green next

Advertisements

Leave a Reply