shayari – मेरे अंदर तेरे आने की ये आस बुझ जाए

shayari latest shayari new

अपने होने का अहसास शायरी

मेरे अंदर तेरे आने की ये आस बुझ जाए
सोचता हूं मोहब्बत की ये प्यास बुझ जाए

उतार देती है दुनियादारी इश्क का नशा
रोजी रोटी की कभी तो तलाश बुझ जाए

रोशनी आती नहीं जिंदगी में कुदरत की
शहर में चांद सूरज बदहवास बुझ जाए

दूर निकल आया हूं अब खुद से कितना
कि अपने होने का भी अहसास बुझ जाए

shayari green pre shayari green next

Advertisements

Leave a Reply