shayari – नहीं थी खबर कि इस तरह रुसवा करोगे हमें

shayari latest shayari new

मोहब्बत कर बैठी शायरी इमेज

नहीं थी खबर कि इस तरह रुसवा करोगे हमें
बस्ती में जाकर सबसे तुम बेवफा कहोगे हमें

एक ऐतबार पर खा चुकी अब तक इतने धोखे
देखती हूं कि कब तक ठोकरें लगाओगे हमें

मेरी जिंदगी में ये कैसी आग लगा गए हो तुम
खाक हो चुकी हूं और कितना जलाओगे हमें

दिल नादान था जो तुमसे मोहब्बत कर बैठी
कहां सोचा कि आखिर में ये सिला दोगे हमें

©rajeevsingh                                    shayari

shayari green pre shayari green next

Advertisements

Leave a Reply