कुरुक्षेत्र से हरप्रीत कौर की लव स्टोरी – Harpreet Kaur love story from kurukshetra

हेलो, मैं हरप्रीत कौर। मैं कुरुक्षेत्र से हूं। मैं अभी 20 साल की हूं। जब 16 साल की थी, उस उम्र में मैं एक लड़के को पसंद करती थी। शायद उस वक्त मेरा बचपना था पर बचपना में किया गया प्यार अभी भी मेरे साथ है और मैं काफी परेशान रहती हूं।

आप मेरी कहानी पूरी पढ़ेंगे तब समझ पाएंगे कि मैं क्या कहना चाहती हूं।

harpreet love story
——-
वो लड़का भी मुझे पसंद करने लगा था। वो गांव का था और मैं शहर की। अट्रैक्शन बढ़ता गया और आहिस्ता-आहिस्ता दो साल बीत गए। बीच में बातचीत बंद हो जाती थी, फिर होने लगती थी।

मेरे घरवालों को ये पता लगा तो वे बहुत गुस्सा हुए। लड़का हमारी कास्ट का ही था और अच्छी फैमिली से था। हम दोनों ने अपने-अपने परिवार को मना लिया। हम दोनों के रिश्ते के तीन साल बीत गए। मैं जॉब करने लगी और वो 12वीं के बाद कोई काम सीखने लगा।
——
मेरे घर की कंडीशन थोड़ी झगड़ेवाली है तो मैं हमेशा फ्रस्ट्रेट रहती थी। इस बीच जॉब की भी टेंशन हो गई और ब्वॉयफ्रेंड को बिल्कुल टाइम नहीं दे पाती थी। इस वजह से हमारे बहुत झगड़े होने लगे। बहुत ज्यादा।

बात इतनी बढ़ गई कि कई बार मैंने उससे ब्रेकअप तक का सोच लिया था। पर वो सिर्फ मेरा सोचना था। मैं ऐसे स्टेज पर थी कि मुझे उसके साथ और सपोर्ट की जरूरत थी। मैं एक तरफ अपने घर से परेशान थी, दूसरी तरफ जॉब से।

ब्वॉयफ्रेंड से बात करने का टाइम ही नहीं मिल पाता था और वह इस बात पर झगड़ा करता था। उसने एक बार मुझ पर हाथ भी उठाया था और गंदी गालियां भी दी थी मेरे फ्रेंड के सामने।

मैं इतनी इरीटेट हो चुकी थी कि एक बार तो मैंने सुसाइड करने की कोशिश की। मेरे मन में ये बात आती थी कि जिसके साथ मुझे अपनी पूरी जिंदगी बितानी है, वही मुझे समझ नहीं रहा तो आगे क्या होगा?

जॉब करते हुए और लड़ते-झगड़ते हुए दो साल निकल गए। मेरी नई जॉब लगी जहां मुझे एक भैया मिले जिनसे मुझे काफी अपनापन मिला। भैया-भाभी के परिवार में मैं घुल मिल गई।
—-
भैया ने मेरी प्रॉब्लम जानी तो उन्होंने भी यही समझाया कि वो तेरा बचपना है, जो इंसान तुझे समझ नहीं रहा अभी, वो शादी के बाद क्या समझेगा।

मैंने भैया-भाभी को बताया कि वो मुझ पर शक भी करता था तो उन्होंने समझाया जिसके बाद मैंने अपने ब्वॉयफ्रेंड को कह दिया कि मैं उससे शादी नहीं करुंगी और कॉन्टेक्ट खत्म कर लिया। 10 महीने तक उसने कोई रिएक्ट नहीं किया।

फिर अचानक फेसबुक पर एक दिन मुझे पता लगा कि हाल ही में उसने जहर पी ली है।
—–
यह जानकर मैं बहुत घबरा गई। क्या करती, मैं तो उसे अब भी प्यार करती हूं। तो मैंने उससे बात की और दुबारा ऐसा कदम न उठाने का वादा लिया।

कुछ टाइम बाद वो ठीक हो गया और एक दिन मेरे घर में बहुत झगड़ा हुआ तो मैंने उसे रात को ही कॉल करके बुलाया। वो आया तो मैंने कहा कि मैं इस घर में नहीं रह सकती, मुझसे शादी कर लो। उसने हां कर दी।
—–
जब ऑफिस वाले भैया को मैंने यह बात बताई तो उन्होंने समझाया कि कि मैं मानता हूं कि तेरे एक बुलाने पर वो आ गया पर अगर वो कुछ कमाएगा नहीं तो तेरे को कहां से खिलाएगा।

मेरा ब्वॉयफ्रेंड कोई काम नहीं करता था। उसके पास जमीन थी वो भी उसके भाई-बाप देखते थे। उसको अभी तक अकल नहीं आई थी। वो कहता कि शादी के बाद शॉप खोलूंगा।

भैया के समझाने पर मैंने फिर अपने ब्वॉयफ्रेंड से लिंक तोड़ लिया। मैंने उसे दुबारा मना कर दिया।…और मैं प्यार उसी से करती हूं। मैं उसे भुला नहीं पा रही हूं। मैं बुरी तरह से उलझी हुई हूं। घरवाले, भैया-भाभी, ये सब मेरे दिल के करीब हैं और मैं उससे अब भी प्यार करती हूं, बेशक वो कोई काम नहीं करता…मैं किधर जाऊं..बुरी तरह से फंसी हूं..बहुत फ्रस्टेट रहती हूं…कभी-कभी लगता है कि कि अपने साथ कुछ कर न बैठूं।