उससे हुई पहली मुलाकात ही आखिरी बनकर रह गई – फरीदाबाद से विकास की लव स्टोरी

मेरा नाम विकास है। मैं अभी बीटेक भाइनल ईयर का स्टूडेंट हूं। मुझे प्यार, मोहब्बत, चाहत, वफा, बेवफाई जैसी चीजों से कोई मतलब नहीं था और न ही ये बातें मुझे समझ में आती थी। लेकिन नेहा जब मेरी लाइफ में आई तो मैं ये सब चीजें समझ में आईँ। ये बात 13 मार्च 2012 की है।

vikas love story
—-
मैं एक शादी के रिसेप्शन में गया था और बचपन से ही मुझे अकेले रहना बहुत पंसद था। वैसे ही मैं अकेले एक कोने में खड़ा था कि तभी अचानक मेरी नजर एक लड़की पर पड़ी। नेहा। जैसे कहते हैं ना कि लव एक फर्स्ट साइट – पहली नजर में प्यार। सेम कंडीशन हुई मेरा साथ। ऐसे लगा जैसे मेरी सारी दुआओं के बदले भगवान ने उसे भेज दिया हो।
—-
अगर वो मेरी पसंद ना भी होती तो भी मैं यही कहता कि उतनी खूबसूरत गर्ल अपनी लाइफ में मैंने नहीं देखी। पर आगे कुछ होना मुश्किल था। मैं उस मैरिज रिसेप्शन में उसे नोटिस करने लगा। वो जिधर जाती, मैं उसको फॉलो करने लगा। अचानक उसकी भी नजर मुझपर पड़ी और उसे लगा कि मैं उसको फॉलो कररहा हूं।
—-
चलते-चलते एक कॉफी स्टॉल पर हम दोनों एक दूसरे के सामने आ गए। लेकिन मेरे पास इतनी भी हिम्मत नहीं थी कि मैं उससे कुछ बोल सकूं। फिर मैं कॉफी लेकर लौट रहा था कि उसने ही मुझे आवाज दी। मेरा नाम पूछा। फिर और भी बातें हुईं। उसी रिसेप्शन में तकरीबन रात के 1 बजे मैंने उसका नंबर मांग लिया।
—-
अगली सुबह हम दोनों अपने-अपने घर चले गए। मेरा दिल कहीं नहीं लग रहा था। ना खाने में, ना सोने में। दिनभर सिर्फ उसके बारे में ही सोचता। ऐसा लग रहा था जैसे अब हमारी बात आगे नहीं बढ़ेगी। लेकिन उसी शाम को उसका कॉल आ गया और हमारे बीच बातें शुरू हो गईं। सिर्फ 13 दिन तक बात हुई। 26 मार्च 2012 तक।
—–
25 मार्च 2012 को जब उसने फोन किया तो बहुत  ज्यादा रो रही थी। मैंने पूछा तो उसने वजह नहीं बताई और रोती रही। फिर मैंने उसे अपनी कसम दी तो उसने बताया कि उसे ब्रेन ट्यूमर है। मेरे सारे सपने जैसे एक पल में टूट गए। मैंने कहा कि चाहे कुछ भी हो, मैं तुम्हारा साथ नहीं छोड़ूंगा।
—–
26 मार्च 2012 को आखिरी बार उसका कॉल आया। सिर्फ इतना उसने कहा कि वो अपना इलाज कराने लखनऊ जा रही है। जाते समय उसने वादा किया था कि अगर वो ठीक हो जाएगी फिर हमेशा के लिए मेरी हो जाएगी। उसका इंतजार करते करते आज 5 साल से भी ज्यादा वक्त गुजर चुका है।
——
अब तक उसकी कोई खबर नहीं है पर इतना भरोसा मुझे आज भी है कि चाहे कोई कंडीशन आ जाए, वो बेवफा नहीं हो सकती। मैं आज भी उससे उतनी ही मोहब्बत करता हूं। किसी और से प्यार करना तो दूर, मैंने उसे छोड़कर किसी और के बारे में सोचा तक नहीं
—-
कितनी अजीब बात है ना। जिस लड़की को दुनिया में सबसे ज्यादा प्यार किया…उससे पूरी जिंदगी में सिर्फ एक बार मिला। शायद वही आखिरी मुलाकात न हो…प्यार फिर भी बेशुमार है…आई लव यू नेहा।

Advertisements

Leave a Reply