love story

महाराष्ट्र से प्रिया की रियल लव स्टोरी – love story of priya from maharashtra

जिन बच्चों के साथ बचपन में गलत हो जाता है और जिनको मां-बाप का प्यार नहीं मिलता, वो प्यार की तलाश में दुनिया में धोखे खाकर बरबाद होते हैं। इन सब में मेरी भी गलती है, लेकिन क्या गलती है, यह मैं समझ नहीं पाती।

दोस्तों, आज जिसकी कहानी लेकर हाजिर हुआ हूं उसका दर्द समझिएगा। एक बच्ची जिसे बचपन से प्यार नहीं मिला, जिसके साथ बचपन से ज्यादती हुई, शोषण हुआ, उसकी मानसिक स्थिति को आप समझते हुए इस कहानी को पढ़िए। यकीन कीजिए, ऐसा हमारे समाज में होता है…ऐसा बहुत कुछ हमारे समाज में होता है जो फिल्मों और सीरियलों में भी नहीं होता। यही सच है। लीजिए, महाराष्ट्र के गोंदिया से प्रिया की जिंदगी की कहानी पढ़िए।

priya love story
—-
मेरा नाम प्रिया है। मैं जब एक साल की थी तब मेरे मां और पापा मुझे नानी के पास छोड़कर जॉब पर चले गए। मै नानी के पास चौथी क्लास तक पली-बढ़ी। नानी मुझे बहुत प्यार करती थी, वही मेरी मां और पापा थी। पर एक दिन नानी जब घर पर नहीं थी तब एक इंसान आया। अब तो मुझे उसकी शक्ल तक याद नहीं क्योंकि उस समय मैं सिर्फ 9 साल की थी। उसने मेरे साथ गलत काम किया। मुझे खराब किया।
————
मैं छोटी थी तो मुझे कुछ समझ ही नहीं आता था। मैं रोती रहती थी लेकिन नानी ने बदनामी के डर से किसी से कुछ कहने से मना किया। छोटे से मन पे घाव तो लगा कि कुछ गलत हुआ है। धीरे धीरे सब भूल गई। जब 5वीं क्लास में गई तो पापा ने मुझे अपने भाई के यहां भेज दिया। वहीं स्कूल में एडमिशन भी करवा दिया। मैं जब छठी क्लास में थी तो मेरे ही चाचा के बेटे ने मेरे साथ कई बार गलत किया। मैं वहां अकेली पड़ गई थी, न मां थे न पापा, अपना दुख किससे कहती।
—-
हमारी पड़ोस में एक आंटी थी जिसे कुछ समझ में आया कि मेरे साथ गलत हो रहा है। उसने पापा से कहा कि वहां से प्रिया को ले जाए। जब मुझे पापा वहां से ले गए उस समय मैं 8वीं क्लास में थी। 8वीं से 12वीं तक मैंने पापा के पास ही पढ़ाई की। 10वीं में मुझे एक लड़के से प्यार हुआ। उस लड़के को पापा पसंद नहीं करते थे फिर भी हम रोज मिलते थे। उसने मेरे लिए आर्मी ज्वाइन कर ताकि मुझसे जल्दी शादी कर सके।
———–
वो ट्रेनिंग करने चला गया और मेरा परिवार किसी और सिटी में शिफ्ट हो गया। उस समय मोबाइल नहीं था इसलिए मैं उससे कभी कॉन्टेक्ट नहीं कर सकी। इस बीच पापा ने मेरी शादी कर दी। खानदान और मां-पापा की इज्जत की खातिर मैंने अपने प्यार को भुला दिया। शादी के पांच छह साल बीत गए और मैं अपने घर और पति से खुश थी। फिर मेरी जिंदगी में एक लड़का आया- अजय। वह मेरा रिलेटिव ही थी इसलिए मेरे घर आता जाता था।
—-
एक दिन अजय ने मुझे प्रपोज किया। मैंने मना कर दिया। धीरे-धीरे वो सच्चा प्यार करने की कसम खाने लगा। मैं बचपन से ही प्यार की तलाश में थी। मुझे भी पता नहीं कैसे यकीन हो गया कि वो मुझसे बहुत प्यार करता है। मैं इस समय दो कश्तियों में सवार थी। मैंने अजय को भी इग्नोर नहीं किया और पति परिवार को भी संभालती रही। दो साल उसने मेरा यूज करने के बाद शादी कर ली, अपनी लाइफ में बिजी हो गया और मुझसे बात करना बंद कर दिया।
———
मुझे बचपन से मां-पापा किसी का प्यार नहीं मिला था। उसके धोखे के बाद मैं पूरी टूट गई। अजय की शादी को 2 साल हो चुके थे। इन दो सालों में उसने मुझे एक बार भी पलटकर नहीं देखा। वो भी मैंने सहन कर लिया। फिर अजय और उसकी बीवी के बीच झगड़े हो गए। उसने अजय पर दहेज और घरेलू हिंसा का केस कर दिया। यह केस 4 साल तक चला और मुसीबत के इन 4 सालों में अजय फिर मेरे पास आया। मैंने उसका पूरा पूरा साथ दिया। हर तकलीफ में उसके साथ खड़ी रही, उसे हिम्मत देती रही।
——-
इन चार सालों में फिर उसने मेरा इस्तेमाल किया। इसी साल 16 जनवरी को मेरे पापा की डेथ हो गई और मैं दुखी थी। अजय ने इसकी परवाह नहीं की। वो मुझे बताए बिना अपनी बीवी को घर लेकर आ गया और फिर मुझसे बात करना, फोन करना, मैसेज करना, सब बंद कर दिया। अब मैं रोती हूं दिन-रात। उसकी वजह से पति और बच्चों का साथ छूट गया। आज मैं बरबाद हो चुकी हूं। वो अपनी दुनिया में मस्त है।
——–
जिन बच्चों के साथ बचपन में गलत हो जाता है और जिनको मां-बाप का प्यार नहीं मिलता, वो प्यार की तलाश में दुनिया में धोखे खाकर बरबाद होते हैं। इन सब में मेरी भी गलती है, लेकिन क्या गलती है, यह मैं समझ नहीं पाती। किसी ने प्यार का नाटक किया और मैं यकीन कर बैठी क्योंकि मुझे कभी प्यार नहीं मिला। उसने मेरे साथ ऐसा क्यों किया? क्यों बचपन से आज तक मेरे साथ गलत ही हुआ और अब भी गलत ही हो रहा है। मेरी लाइफ के साथ सबने खेला। अजय की फितरत में भी धोखा था, उसने भी प्यार का नाटक करके मुझे लूटा। मैं अब घुट-घुट करके जी रही हूं। मैं क्या करूं? टूट चुकी हूं।
—–

Advertisements

Leave a Reply