love story

सच्चे प्यार की तलाश में भटक रही हूं – अंजलि की लव स्टोरी

हैलो, मैं अंजलि हूं। उत्तराखंड के छोटे से जिले चंपावत की छोटी सी जगह लोहाघाट से हूं। लोहाघाट के ही दूसरे इलाके का एक लड़का था रोहित। वो मेरा फेसबुक फ्रेंड था। उसने पहले प्रपोज किया तो मैंने ठुकरा दिया था। फिर एक साल बाद उससे लोहाघाट में ही मुलाकात हुई तो बातें होने लगीं।

anjali love story
——
उसने मुझे कहा था कि वो आर्मी ऑफिसर है। ये भी कहा कि वो मेरे साथ पूरी लाइफ बिताना चाहता है। मैं उस पर ट्रस्ट करती थी। वो मेरा पहला प्यार था। मुझे उसके फैमिली बैकग्राउंड या किसी और चीज से कोई फर्क नहीं पड़ता था। मैं बस उससे प्यार करती थी। धीरे-धीरे उसे मेरे और दोस्तों से प्रॉब्लम होने लगीं।

मैं उससे प्यार करती थी इसलिए मैंने अपने दोस्तों से दूरी बना ली। कुछ समय बाद एक दिन पता चला कि उसने मुझसे झूठ बोला था कि वो आर्मी में जॉब करता है। यह जानकर मैं टूट गई थी।

फिर भी मैंने उससे कहा कि वो बातें भूलकर नई शुरुआत करते हैं, मैं तुमसे प्यार करती हूं, जॉब से नहीं। लेकिन उसकी बुरी आदतें गई नहीं, वह शक करता था, गालियां देता था लेकिन मेरा प्यार कम नहीं हुआ। एक दिन मेरे घरवालों को हमारे बारे में पता चल गया।

मैं ताऊ-ताई के पास रहती थी और उनको ही मां-पापा कहती रही। मेरे असली मां-बाप गांव में रहते हैं लेकिन उनको कभी हमसे मतलब  नहीं रहा। मेरी ताई अब इस दुनिया में नहीं है जिसने मुझे मां का मतलब समझाया। मेरे प्यार के बारे में पता चलने पर ताऊ और उनके बेटे मुझे ही गलत बोलने लगे। ये सब इसलिए क्योंकि मैं अपने पसंद के लड़के से शादी करना चाहती थी।
—-
मेरे घर में सबने मेरे हाथ का खाना खाना छोड़ दिया। कॉलेज से आने में थोड़ी देर हो जाती तो डांट पड़ती। घर के लोग पूछते कि किसके साथ थी? वे सब रात को उठ-उठ कर मेरे रूम में देखते रहते थे कि मैं हूं या भाग गई। ऐसी बहुत बातें हैं जो मेरे मन में फैमिली के लिए नफरत पैदा कर गई। अगर वो मुझे समझाते तो शायद मैं समझ भी जाती लेकिन उन्होंने मेरे साथ खराब व्यवहार किया।
—-
जहां मैं ये सब झेल रही थी, वहां अभी और भी बहुत कुछ होना बाकी था। रोहित को मैंने कॉल किया तो उसने कहा कि वो किसी और प्यार करने लगा है। मेरे साथ बस टाइम पास कर रहा था। उसने कहा कि मेरे जैसी हजारों लड़कियों की वो लाइन लगा देगा। उसने कहा कि मैंने तुमसे प्यार इसलिए किया क्योंकि मेरे दोस्त ने कहा कि उस लड़की को पटा के दिखा जो किसी से बात नहीं करती है।
—-
उस दिन मेरी पूरी दुनिया उजड़ गई। मैं अपनी ताई जो मेरी मां से भी बढ़कर थी, उसको भी खो चुकी थी। मैं टूट गई और सुसाइड करने की कोशिश की। मेरी एक फ्रेंड ने मुझे बचा लिया। मैं उसके बाद गुमसुम रहने लगी। इन बातों को अब एक साल से ज्यादा हो चुका है। मेरा रोहित के साथ तीन साल का रिश्ता रहा लेकिन आज भी लगता है कि वो मुझसे झूठ बोल गया कि वो टाइम पास कर रहा था।
—-
उसने उसी लड़की से शादी की जिससे उसने कहा था कि वह प्यार करता था। मैं उस दिन यह बात जानकर बाजार में रो पड़ी थी। मैंने भी उससे प्यार किया था। मुझे आज तक उन सवालों के जवाब ही नहीं मिले कि मैंने भी तो बस उसी से प्यार किया था तो फिर धोखा क्यों। हमेशा उसे अपना समझा, हर हालात में साथ दिया फिर भी धोखा दिया।
—–
रोहित के साथ ब्रेकअप के बाद मेरी जिंदगी में हल्द्वानी का एक लड़का आया। वो मुझे फेसबुक पर मिला था। किसी पोस्ट पर लव के बारे में कमेंट करने के दौरान मेरी उससे तकरार हो गई थी। वह मेरी फ्रेंड को जानता है। उसने मेरे बारे में पता किया और मुझसे प्यार कर बैठा। वो हमेशा मेरी फ्रेंड से मेरे बारे में पूछा करता था। पोस्ट में मेरा नाम लिख दिया करता था। फिर मैं भी एक दिन पिघल गई।
—–
उससे दोस्ती हुई तो पता लगा कि उसका भी दिल टूटा है। मैं उससे अपनी सारी बातें शेयर करने लगी। उसे अपना पास्ट बताकर रो लिया करती थी। उसने मुझे लव यू कहा तो मैंने उसका एक साल तक कोई जवाब नहीं दिया। फिर भी वो बिना शिकायत के बातें कता रहा। उसके पास मेरा नंबर था लेकिन उसने कभी मुझे परेशान नहीं किया।
—-
एक दिन अचानक उसने कहा कि एक महीने तक वो मुझे बात नहीं कर पाएगा तो मुझे लगा कि मैं रह लूंगी। लेकिन मैं उसकी कमी महसूस करने लगी तब जाकर अहसास हुआ कि कहीं न कहीं मैं भी उससे प्यार करने लगी हूं। मैंने भी उसको फिर लव यू बोल दिया।
—–
शायद दूसरी बार में मुझे सच्चा प्यार मिला। उसने मेरे पास्ट के साथ मुझे एक्सेप्ट किया। वो लोहाघाट से दूर रहता है। तीन साल हो चुके हैं हमारे प्यार को। हम मिले नहीं है अभी तक। लेकिन अगले महीने मैं उससे मिलूंगी। हम एक दूसरे की प्यार से भी ज्यादा इज्जत करते हैं। बहुत ख्याल रखते हैं।

अब मुझे एक ही सवाल परेशान करता है कि वो मुझसे उम्र में दो साल छोटा है। वो कहता है कि उसकी फैमिली समझ जाएगी और मेरी फैमिली को वो समझा लेगा।  मैं परेशान रहती हूं कि अगर घरवाले नहीं समझे तो फिर मेरा प्यार दूसरी बार भी दूर हो जाएगा।
—–
अब मेरे पास जीने की वजह भी मेरा प्यार ही है क्योंकि बहुत साथ दिया है उसने मेरा। वो मुझे बहुत समझाता है। पर कभी कभी समझ में नहीं आता कि क्या करूं? मेरी फैमिली ये सब कभी नहीं समझेगी।

लेकिन मेरा दिल करता है कि वो साथ है तो मैं सबसे लड़ जाऊं। मेरी फैमिली को मेरे जीने-मरने की कोई फिक्र नहीं है। मैं समझ नहीं पा रही कि क्या मैं अपनी फैमिली के खिलाफ जाकर उसे एक्सेप्ट करूं?  या फिर वो मुझसे दो साल छोटा है इसलिए हम कभी एक नहीं हो पाएंगे?

Advertisements

One comment

  1. HUM BHI PYAR KARTE THE KISI SE US NE HUM KO DHOKH DEYA THA US KA NAAM SONAM THA MERA NAAM CHAND KHAN ME LUCKNOW SE HU DOSTO KABHI LADKI DHOKH DETI HAI TO KABI BOY PYAR KA EYHA KOEI MATLB NAHI JANTE HAI BAS PYAR KARNA HAI ESAA BOLTE HAI LOG

Leave a Reply