इस दुनिया में बेमतलब कोई रिश्ता नहीं बनाता – जूली की रियल लव स्टोरी

मैं सोनिया हूं। यूपी से हूं। मैं अपनी दोस्त जूली की जिंदगी की कहानी सुना रही हूं जो इस जज्बात पेज से एड है। मेरी दोस्त जूली घर में सबसे छोटी थी। उससे बड़े भाई-बहन और मां-बाप उससे बहुत प्यार करते थे लेकिन जूली जब बड़ी हुई तो अपने दिल की बात उनसे शेयर नहीं कर पाती थी। घर में वो सबसे छोटी थी इसलिए।

जूली लव स्टोरी

—–
जब वो आठवीं में थी तो वो स्कूल के लिए निकलती तो पड़ोस का एक लड़का अंगद रोज उसके पीछे लग जाता और साथ-साथ स्कूल के गेट तक जाता। जूली ने कुछ दिनों बाद इसे नोटिस किया और उसे हमेशा आस-पास महसूस करने लगी। वो भी उसे पसंद करने लगी थी। एक दिन अंगद ने भी दिल की बात कह दी। उन दिनों फोन नहीं था इसलिए दोनों में ज्यादा बात नहीं हो पाती थी। जूली को दिल की बात शेयर करनेवाला कोई मिल गया था।
—-
जूली उस लड़के को पाकर खुद को लकी मानती थी। राह चलते दोनों की बातें होती थीं। जूली जब 12वीं में पहुंची तो अंगद ने अपने एक खास दोस्त रोशन को उससे मिलवाया। इस घटना के बाद अचानक वह लड़का जूली से दूरी बनाने लगा। जूली टेंशन में रहने लगी। उसने एक दिन उस लड़के को रोककर दूर जाने की वजह पूछी तो उसने कहा कि वह उससे प्यार नहीं करता।
—-
यह सुनकर जूली को बहुत दुख हुआ। लेकिन ऐसे समय में रोशन सामने आया और जूली को सहारा देने लगा। जूली मरना चाहती थी लेकिन रोशन ने उसे समझाया, बचाया। दोनों की अच्छी दोस्ती हो गई और जूली अंगद को भूलने लगी। लेकिन जूली की किस्मत ने फिर उसे धोखा दिया। जब जूली बीए में कॉलेज गई तो वहां अंगद भी पढ़ने आ गया। अंगद ने उससे माफी मांगी। जूली का वह पहला प्यार था इसलिए उसने उसे माफ कर दिया।

इधर रोशन की शादी हो गई तो जूली उससे दूर हो गई। कुछ दिनों बाद अंगद की धोखेबाजी फिर सामने आ गई। वो किसी और लड़की से अफेयर में था। जूली की जिंदगी में तूफान आ गया और वह दूसरी बार धोखेबाजी बर्दाश्त नहीं कर पाई और कॉलेज में ही गश खाकर गिर गई। अंगद उसे छोड़ चला गया लेकिन उसी के क्लास का एक लड़का मिहिर उसे बाइक पर बैठाकर डॉक्टर के पास ले गया, दिखाया और घर छोड़ आया। जूली बीमार रहने लगी और कॉलेज जाना उसने बंद कर दिया। परीक्षा आनेवाली तो कॉलेज जाना मजबूरी में गई। वह बस से अकेली जाती थी। एक दिन परीक्षा थी और बस वाले हड़ताल पर थे।

जूली ने बस स्टॉप से भाई को फोन मिलाया तो उसने कहा कि बाइक खराब है। तभी उसी रास्ते से मिहिर कॉलेज जा रहा था। उसने जूली को लिफ्ट दी। जूली मिहिर के साथ परीक्षा देने गई और शाम को भी उसी की बाइक पर लौटी। यह बात उसने मां को बता दी। परीक्षा के अंतिम दिन जूली मंदिर जानेवाली थी। उसने मिहिर को ये बात बताई। मिहिर भी मंदिर पहुंच गया। वहां से मिहिर उसे बाइक पर अपने कमरे पर ले गया, बोला थोड़ा रेस्ट कर लेंगे।
—-
जूली बहुत दुखी रहती थी। उसका दुख कोई समझता नहीं था। उसने कमरे पर मिहिर से अपना दर्द कहना शुरू किया। जूली बताते-बताते रो पड़ी। मिहिर ने उसे चुप कराया और गले से लगा लिया। कुछ देर दोनों को होश नहीं रहा और दोनों के बीच फिजिकल रिलेशन बन गया। इसके बाद दोनों का रिश्ता जारी रहा। एग्जाम का रिजल्ट आया और दोनों ने सेकेंड ईयर में एडमिशन लिया तभी दोनों के रिश्ते के बारे में जूली के भाई को पता चल गया।
—-
जूली के भाई ने प्यार से उससे सब पूछ लिया और उसने भी सब बता दिया। जूली के भाई ने पहले तो वादा किया वह मिहिर से उसकी शादी कराएगा लेकिन घर आते ही वह पलट गया। उसने घर में जूली के रिश्ते को लेकर बवाल किया। उसने जूली का कॉलेज छुड़वा दिया और जबर्दस्ती उसकी शादी करा दी। जूली को हां करनी पड़ी क्योंकि भाई रोज घर में कलह करता था। सुहागरात में पति ने उसके साथ जबर्दस्ती की। पति ने जूली को समझने की कोशिश तक नहीं की और वह टूट गई।
—-
जूली भी क्या करती, बर्दाश्त कर गई। आखिर लड़की थी। उसका पति रोज उसे मारता-पीटता था और उसके साथ संबंध बनाता था। जूली ने यह सब झेलकर किसी तरह बीए किया और इसी बीच उसे एक बेटा हुआ। पति के टॉर्चर की वजह से परेशान रहती थी। पति उसके बेटे का भी ख्याल नहीं रखता था। वह मां-बाप के पास भी कम ही जाती थी। उसके परिवार का एक रिश्तेदार वाट्सऐप पर था जो जूली से कभी-कभी चैट करता था। वह जूली के यहां आता भी था।
—-
वह रिश्तेदार जूली से काफी बड़ा था लेकिन जूली की काफी केयर करता था। जूली भी उससे अपना दर्द शेयर करने लगी और उसको अपने पति के बारे में और अपनी खराब मैरिज लाइफ के बारे में सारी बातें बता दीं। रिश्तेदार जूली का दोस्त बन गया। उसने उसके बेटे का एडमिशन अच्छे स्कूल में कराया। वो रिश्तेदार जूली के घर आता-जाता था। जूली को भी सहारा चाहिए था इसलिए बेटे की ममता के लिए उसने फिर से अपनी कुर्बानी दी। रिश्तेदार से उसके संबंध बन गए। आज तक सब जूली का फायदा उठानेवाले उसे मिले थे और वह भी बहुत जल्दी किसी पर विश्वास कर लेती थी।
—–
वो रिश्तेदार भी कमीना निकला। उसने अचानक जूली से रिश्ता तोड़ लिया और उसे फेसबुक, वाट्सऐप हर जगह ब्लॉक कर दिया। वो भी जूली का फायदा उठाकर भाग गया। अब जूली के बेटे की स्कूल की फीस कौन देता? जूली ने जैसे-तैसे कुछ काम करना शुरू किया और बेटे की फीस किसी तरह एरेंज कर रही है। पर जूली को अब अपने आपसे नफरत हो चुकी है। आज वो खुद से चिढ़ती है। उसका पूरा दिन फेसबुक पर बीतता है। शाम को पति की मार-पीट और जिल्लत के संबंध झेलती है।
—-
जूली कहती है कि इस दुनिया में कोई बेमतलब का साथ नहीं देता। उसे सब फायदा उठानेवाले मिले। इस दुनिया में ऐसा कोई नहीं है जो जूली को समझे, उसे इस घुटन से बाहर निकाले, उसे लाइफ से प्यार करना सिखाए। वो बहुत अकेली और टूटी हुई है। काश कोई उसे मिलता जो उसके जख्मों को अपने प्यार से भर देता। जूली का दोस्ती, रिश्ते और प्यार पर से भरोसा उठ चुका है। चाहती हूं कि जूली को किसी तरह यकीन हो कि प्यार या दोस्ती जिल्लत नहीं खूबसूरत तोहफा है।
—-
डियर एडमिन, मैने आपका पेज देखा तो सोचा कि शायद यहां कमेंट्स से जूली को कुछ मदद मिले। शायद उसे कोई नया रास्ता मिले, हौसला मिले जो उसे जीना सिखा सके। उसे उसकी तकलीफ से बाहर निकाल सके। मैं जूली को इस तरह जीते नहीं देख सकती, बर्दाश्त नहीं कर सकती। मैं चाहती हूं कि आगे फ्यूचर में कोई और उसका फायदा न उठा पाए। वो इस पेज को लाइक करती है। आप जो भी कमेंट करेंगे वो पढ़ेगी। प्लीज हेल्प।

Advertisements

Leave a Reply