मैं डॉक्टर हूं लेकिन प्यार के रोग में मेरा खुद इलाज चल रहा है

मेरा नाम वीर है। मैं एक डॉक्टर हूं। मैंने चंडीगढ़ के पीजीआई से एमबीबीएस किया है। यह उसी समय की बात है। उस समय मेरा सेकेंड ईयर चल रहा था। नया बैच आया था। मैंने उस लड़की की इंट्रो ली। उसके बाद से ही वो मुझे रोज गुड मॉर्निंग विश करने लगी।

love story veer
—–
फिर एक दिन उसने मुझसे मेरा मोबाइल नंबर लिया। मुझसे नोट्स लेने के बहाने बात की फिर उसी दिन शाम से उसके टेक्स्ट मैसेज आने स्टार्ट हो गए। हम दोनों की बात होती गई और एक दिन उसी ने मुझे प्रपोज भी कर दिया।
——
मैंने इग्नोर किया तो वह कहने लगी कि मैं सच में तुमसे प्यार करती हूं तो मैं भी इस रिश्ते में आगे बढ़ गया क्योंकि मैं भी उसको लाइक करने लगा था। फिर रिलेशन गहरा होता चला गया। उसके लिए मैं सब भूल गया। सबकुछ छोड़ दिया। मैं खुद को नहीं, बस उसी को देखता था।
——
उसकी हर विश पूरी की। जीना उसी के लिए, मरना उसी के लिए। एक दिन मैंने वह कॉलेज छोड़ दिया तो उसके बाद भी हमारे प्यार पर कोई फर्क नहीं पड़ा था। टाइम निकलता गया और उसके एग्जाम हुए। फिर सेशन खत्म होने के बाद हॉस्पिटल में उसकी डॉक्टरी ड्यूटी लग गई।
—–
पीजीआई में ही मेरा एक फ्रेंड था जिसके साथ मेरी गर्लफ्रेंड की दोस्ती हो गई। मैंने ट्रस्ट करके कुछ नहीं कहा पर उसने मुझे धोखा दिया। वो मुझे इग्नोर करने लगी। मुझे बेवकूफ बनाती रही। फिर वो मेरे फ्रेंड के साथ घूमने लगी। उसके साथ प्यार करने लगी।
——
मुझे शॉक लगा और मेरा मानसिक संतुलन बिगड़ गया। मैंने अपने पैसों से उसके लिए किताबें खरीदी थीं और उसको पढ़ने में मदद की थी फिर भी वो चली गई। मैं अपने फ्रेंड को जानता हूं, वो लड़कियों से बहुत जल्दी फिजिकल होता है। मैं वैसा नहीं था। प्यार करनेवाले की मेरी गर्लफ्रेंड ने कद्र नहीं की। मैं पागल हो गया।
——-
मेरे पैरेंट्स ने मेरा ट्रीटमेंट कराया। मनोचिकित्सक ने दो महीने तक मेरा इलाज किया फिर भी मैं ठीक नहीं हुआ। आज भी वही नजर आती है। वो मुझे भूल गई। क्या वो वापस आ सकती है, इसका कोई जवाब नहीं देता। मेरे प्यार के बारे में बस मेरी मां को मालूम है।
——-
अब उससे ब्रेकअप हुए छह महीने बीत चुके हैं। मैं बार-बार उसकी डीपी देखने की कोशिश करता हूं लेकिन वो नहीं दिखती। मुझे ब्लॉक कर रखा है। मम्मी ने मेरी हालत देखकर मेरी शादी तय कर दी है। उसके साथ 26 जुलाई को इंगेजमेंट हो रहा है। मेरी मां सोचती है कि मुझे किसी का साथ मिलेगा तो मैं खुश रहूंगा। मैंने उनको इस शादी के लिए मना नहीं किया।
—–
लेकिन मैं अपनी गर्लफ्रेंड को भुला नहीं पाऊंगा। अभी भी मैं बीमार हूं और मानसिक रूप से ठीक नहीं हूं। मुझे उसके जाने के बाद गहरा सदमा लगा। जो लड़का फिजिकल रिलेशन में है, उसके साथ वो चली गई। बोलती है, उसी से शादी करूंगी। मैंने उससे प्यार किया था लेकिन वो मुझे छोड़ गई। मैंने उसके बेहतर फ्यूचर के लिए क्या कुछ नहीं किया, सब भूल गई। उसने बस मेरा इस्तेमाल किया शायद।

Advertisements

Leave a Reply