अपने बीवी-बच्चों के साथ वे मेरे सामने रहता है, हम दोनों में सात साल का प्यार था

मैं मुंबई से फलक हूं। मेरा प्यार वो 16 साल वाला होता है ना, बिल्कुल वैसा ही था। बहुत करती हूं मैं उसे आज भी। क्या करूं, भूल ही नहीं पाती। वो मेरा पड़ोसी, जस्ट सामने-सामने हमारे मकान हैं। तो कैसे भुलाऊं उसको, रोज उसकी आवाज आती है, रोज देखना सुनना होता है।

फलक लव स्टोरी
—–
मैं कैसे भुलाऊं उसकी बेवफाई को। आज भी बहुत हर्ट होता है, जब मैं उसे किसी और साथ, बेबी के साथ देखती हूं। उसने क्यों मजबूरी का नाम लेकर किसी और से शादी की। अपनी जिंदगी में आगे बढ़ गया। मैं आज तक उसे भूल नहीं पा रही हूं। मैं अभी 23 साल की हूं।
—–
नौवीं क्लास में थी तबसे ही उससे प्यार करती हूं। हम दोनों रोज चैट करते थे। एक दूसरे को देखना, आंखों से बातें करना, सबकुछ ठीक था। मैं 12वीं में थी उस समय वो जॉब पर लग गया था। उसके ऑफिस में एक लड़की थी जो मेरी रिश्तेदार थी।
—–
उस लड़की ने एक दिन उसके मोबाइल में मेरे मैसेज पढ़े तो ब्वॉयफ्रेंड ने मुझे इस बारे में बताया। उसने कहा कि बस लंच साथ में करती है। मुझे उसके प्यार पर बहुत भरोसा था लेकिन उस लड़की ने उसे मुझसे छीन लिया। दोनों ने इंगेजमेंट कर ली तो मैंने सारे कॉन्टेक्ट तोड़ लिए, उसने भी कॉन्टेक्ट नहीं किया।
—–
8 महीने बाद उसने मेरे बर्थडे पर मुझे कॉल किया और हम फिर से कॉन्टेक्ट में आए। वो मुझसे बोलता रहा कि मैं तुम्हारे बिना नहीं रह सकता, मुझे तुमसे प्यार है। मैं उसको बोली कि फिर तोड़ दो इंगेजमेंट। वो बोलता रहा कि मुझे टाइम दो पर उसने कुछ किया ही नहीं।
—–
उसको बहुत केयर थी मेरी, मुझे रोता हुआ कभी नहीं देख सकता था। हम दिन-रात चैट-कॉल पर बात करते थे। वो रात को खिड़की पर मिलने आता था, उसको बहुत प्यार था मुझसे। हमारा प्यार सात साल से चल रहा था। फिर भी उसने मुझे छोड़ दिया। कुछ नहीं कर पाया, हमारे प्यार के लिए।
——
शादी के बाद भी वो मुझे बहुत परेशान करता था, रोता था पर मैं क्या करती और फिर अब तो उसका बच्चा भी है। बहुत बुरा लगता है मुझे पर किसको बोलूं, मेरी तकलीफ कोई नहीं सुननेवाला। मैं कैसे भुलाऊं, वो सामने ही रहता है। मैं उससे कॉन्टेक्ट में तो नहीं हूं लेकिन रोज सामने दिख जाता है। अपनी बीवी और बेबी के साथ खुश रहता है। मैं बहुत हर्ट होती हूं कभी-कभी ये सोचकर कि उसने प्यार किया या बस टाइम पास।
—-

Advertisements

Leave a Reply