love story

काव्या की लव स्टोरी आपके दिल को छू लेगी

ऐसी शायद कोई घड़ी है जो वक्त को फिर से 13 साल पीछे ले जाए..पर शायद नहीं वो गलती, जिसे बेपनाह प्यार कहते हैं...अब शायद इस गलती की कोई माफी नहीं है...मेरी कोख तो सूनी थी ही...अब जिंदगी भी सूनी हो चुकी है।

मेरा नाम काव्या है। मैं 22 साल की हूं। मैं जयपुर में रहती हूं। मैं पिछले 13 साल से एक इंसान के साथ रिलेशन में थी। ये वो एज थी जब हम दोनों बच्चे थे। बचपन से साथ रहे, एक स्कूल में पढ़े और अब तक 17 फरवरी 2017 तक साथ थे। वो शुरू से ही मुझे लेकर क्रेजी थी। इतना ज्यादा कि मैं जिस बेंच पर बैठती थी तो वह जस्ट मेरे पीछे बैठता और किसी को उस जगह पर बैठने नहीं देता था। एक कॉलोनी में रहते थे, स्कूल बस से साथ एक ही स्कूल जाते थे। ऐसी कोई जगह नहीं जहां हम साथ नहीं होते थे, लेकिन वो बचपन था।

love story kavya
——
फिर हमने 10वीं पास की और वो दूसरी स्कूल में चला गया। मैं रेगुलर छोड़ प्राइवेट स्टडी करने लगी। फिर 12वीं का एग्जाम भी हो गया और हम दोनों की करीबी बढ़ती गई। मैं अपनी हर बात उससे शेयर करती थी, छोटी से छोटी बात। वह मुझे लेकर काफी पजेसिव था लेकिन मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं हुई। ये मत पहनो, उससे मत बात करो, जो वो कहता, मैं सब मानती थी लेकिन फिर भी उसने 3 और गर्लफ्रेंड बना लिए। मैंने उससे कहा तो उसने एक्सेप्ट भी किया। उसके उन लड़कियों से फिजिकल रिलेशन भी थे।
——
उसको अपने किए पर कभी पछतावा नहीं होता था। उसने मुझसे बोला कि तू मुझे छूने ही नहीं देती यार, प्यार में ये सब चलता है, मैं क्या करता? लेकिन मैं फिजिकली कमिटेड नहीं होना चाहती थी। मैं डिप्रेशन में चली गई और रोती रहती थी। फिर मैंने कुछ दिनों बाद उसे माफ कर दिया। मैंने हमेशा उसकी हर गलती माफ की। इन 13 सालों में उसने एक बार भी सॉरी नहीं बोला। मुझे ये लगता था कि चलो कुछ भी करेगा, शादी और प्यार तो मुझसे ही करता है। वो बहुत हर्ट करता था, मैं माफ करती गई।
——
मैं टीचर की जॉब करती थी। फिर भी मैंने उसके लिए ज्यादा टाइम निकालना शुरू कर दिया ताकि उसे फील न हो। मैंने सोचा था कि उसे टाइम दूंगी तो वो खुश हो जाएगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ। वह देर रात तक ऑनलाइन रहता था और उसका फोन बिजी रहता था। मैं यह सब जानकर टूट गई। वो सिर्फ मेरा ब्वॉयफ्रेंड नहीं था, मैं उसे पति मानती थी। वो मेरे लिए महज इंसान नहीं, मेरे लिए मेरी हिम्मत, मेरा गुरुड़, मेरा सेंस, वो सबकुछ था।
——-
मैंने उससे बात करनी चाही तो वो गुस्से में बोला कि तेरे अलावा भी मेरे बहुत अपने हैं जो तुझसे ज्यादा जरूरी हैं मेरे लिए। मैं टूट गई अंदर ही अंदर। मेरी हालत खराब रहने लगी। मैं पागल होने लगी। उसके हर एक धोखे के साथ मैं टूटती जा रही थी। फिर मैंने एक दिन शादी के लिए बोला तो उसने कह दिया कि मैं तुझसे शादी नहीं कर सकता। उसकी इस एक लाइन ने मुझे पागलपन के कगार पर लाकर खड़ा कर दिया।
——-
उससे शादी न करने का रीजन पूछा तो कहने लगा कि मैं मां-बाप से बात नहीं कर सकता, उनके खिलाफ नहीं जा सकता। मैंने कहा कि मैं मना लूंगी उनको, फिर भी वो नहीं माना। बोला कि अगर तुमने मेरे घर में बात की तो मुझसे बुरा कोई न होगा। तू बात करेगी तो मैं कह दूंगा कि मैं तुमसे शादी नहीं करना चाहता। उसने कहा कि तुझे स्टडी करनी है, लाइफ में फेमस होना है, तू मेरे मम्मी पापा का ख्याल नहीं रख पाएगी। मैंने कहा कि छोड़ देती हूं स्टडी तुम्हारे लिए।
——-
मैंने उसके बारे में अपनी फैमिली को बता दिया था। मैं राजपूत हूं और वो ब्राह्मण। मेरी फैमिली ने विरोध किया था लेकिन मैंने उनको मना लिया था। और फिर जब उसने शादी के बारे में ऐसा कहा तो मैं जैसे तबाह हो गई। मुझे सिंगर बनना था। उसने कहा कि सिंगिंग छोड़ दो, मैंने छोड़ दिया। मैंने उसके लिए अपना बना-बनाया करियर छोड़ दिया। फिर भी उसने ये कहा कि मैं तुमसे शादी नहीं कर सकता क्योंकि तू मुझे फिजिकली प्यार नहीं करती। मुझे शादी से पहले ये सब चाहिए। तेरे साथ शादी करूंगा तो लाइफ बोरिंग हो जाएगी।
——-
शादी न करने का जो एक और रीजन उसने बताया जिसने मुझे हिलाकर रख दिया। 6 साल पहले मेरे पेट में गहरी चोट लग गई थी जिस वजह से डॉक्टर ने मुझे कहा था कि मैं कभी मां नहीं बन सकती। मैंने यह बात उसे भी बताई थी। उस दिन शादी के सवाल पर वह चिल्लाकर कहने लगा कि तू मां नहीं बन सकती। मैं दुनिया को क्या जवाब दूंगा, लोग तो मुझमें ही कमियां निकालेंगे। यह सुनकर मैं पूरी तरह बिखर गई। मैंने उसके पैर पकड़ लिए। मैंने कहा कि मैं अपनी कमी को सबके सामने एक्सेप्ट कर लूंगी। तू नहीं कमाता है, मैं कमाऊंगी। दुनिया से तुम्हारे लड़ जाऊंगी लेकिन तू साथ चलकर देख, पर वो नहीं माना। ये बात नवंबर 2016 की थी।
——
तब से लेकर 12 फरवरी 2017 तक मैंने उसको मनाने, समझाने की पूरी कोशिश की। मैं बिल्कुल पागल सी हो गई थी। मेरी खराब हालत देखकर मेरी फैमिली ने मेरे साथ उसकी फैमिली से मिलने का फैसला किया। मैंने उसको कॉल किया तो वह गुस्सा होने लगा। फिर उसने पार्क में खुद मिलने की बात की। मेरी फैमिली, मम्मी, पापा, मामा, मैं सब थे वहां। वो अपने एक दोस्त के साथ आया। उसने मेरे मां-बाप से कहा कि आपकी बेटी को गलतफहमी हुई है। मैं उसको दोस्त मानता हूं। आप उनको समझाओ। वो दोस्त से ज्यादा कुछ नहीं।
—–
पार्क में उसकी बात सुनकर मैं सुन्न हो गई। मेरी फैमिली के लोग गुस्सा हो गए और मुझे जबर्दस्ती उठाकर ले गए। मेरे पास सबूत नहीं था जो दिखा पाती कि उसने मुझसे क्या-क्या कहे थे, मैं तुम्हारे बिना नहीं जी सकता और जाने क्या-क्या वादे किए थे? जिस अकाउंट से मैं उससे बात करती थी, उसको गुस्से में कुछ दिन पहले मैंने डिलीट कर दिया था वरना मैं सबको दिखा पाती उसकी बेवफाई के सबूत। उसने मेरी जिंदगी के 13 सालों को गलतफहमी करार दे दिया। मेरी आधी से ज्यादा जिंदगी को उसने गलतफहमी का नाम दे दिया।
——–
मेरे घर के हर कोने में उसकी यादें हैं। मैंने उसके सिवा किसी और के बारे में पिछले 13 साल से सोचा तक नहीं था। उसके धोखे के बाद 17 फरवरी 2017 को मैंने फिर उसे कॉल किया, यह जानते हुए कि वह नहीं उठाएगा। इसके बाद मेरी मम्मी ने मुझे समझाया कि बेटा वह तेरा नहीं रहा अब। उस दिन के बाद आज तक उसे कभी कॉल नहीं किया। मैंने खुद को आईने में एक दिन देखा तो डर लग गया। मेरी आंखों के किनारे डार्क सर्किल बन गए थे।
——-
मैं कुछ दिनों के लिए नानी के यहां चली गई लेकिन उसकी यादों ने पीछा नहीं छोड़ा। मैं सोने के लिए नींद की गोलियां खाती थीं। लोग ऊपर से देखते थे कि मैं ठीक हूं लेकिन अंदर ही अंदर मैं मर रही थी। खुद को खतम कर रही थी। दर्द पीकर अंदर जहर पाल रही थी। मैं एक डांसर थी, एक सिंगर थी, आईएएस बनना था, अपने स्कूल की टॉपर थी लेकिन उसके लिए सब छोड़ दिया और उसने मुझे छोड़ दिया। मुझे वहां लाकर खड़ा कर दिया जहां से आगे रास्ता ही नहीं बचा था।
——
वो कहता था तेरी आंख में अगर आंसू आ जाए तो मैं पूरी दुनिया को आग लगा दूंगा। आज मेरी पूरी दुनिया में आग लगा दी उसने और मैं चाहे कितनी भी आंसू बहा लूं पर मेरे आंसू ये आग नहीं बुझा सकते। कहता था तेरी स्माइल मेरे लिए दुनिया सबसे कीमती चीज है और मैं कभी इसे खोने नहीं दूंगा लेकिन आज उसी ने मेरी मुस्कुराहट छीन ली हमेशा के लिए। कहता था कि तेरे दुख के आगे मैं खड़ा रहूंगा और आज वो मेरे दर्द और तकलीफ की वजह है। कहता था कि हमें कोई अलग नहीं कर सकता, भगवान भी नहीं और मेरी एक कमी कि मैं मां नहीं बन सकती इसलिए मुझे छोड़ दिया।
——
वो मुझसे गाने सुनता था, लेकिन अब तो मैं खुद के लिए भी नहीं गा पाती हूं। वो गाने मुझे और तकलीफ देते हैं। उसने तो मेरे प्यार को मेरा स्वार्थ तक कह दिया था क्योंकि मैं लड़ रही थी उसके लिए सबसे, इसलिए मैं स्वार्थी थी।
——
अगर गलती से नींद भी लगती है तो एक फिल्म सी चल जाती है आंखों के सामने। सोचती हूं कभी वो लौटेगा और मुझे गले लगाकर बोलेगा कि देख मैं लौट आया हूं, तेरी हिम्मत हूं, भरोसा हूं, तू सपना देख रही थी पागल, मैं यहीं था तुम्हारे पास। मैं किसी से कह नहीं पाई तो यह पेज मुझे दिखा। मुझे लगा कि शायद जो कह ना पाई, किसी को लिखकर बता दूं, शायद दिल हल्का हो जाए।
——
मैं बस सबसे यही कहना चाहती हूं कि किसी से प्यार करो तो मजाक मत बनाओ। मर जाता है सामनेवाला आपके इस मजाक से। तबाह हो जाता है वो। जिंदगी हंसती है उस पर और मौत बोलती है कि मरे हुए को क्या मारूं? ऐसी खामोशी घेर लेती है जिसका कोई अंत नहीं होता।
—–
मैं बस यही कहना चाहती हूं कि किसी के जज्बात का कभी मजाक मत बनाओ। कोई मुझे ये बताए कि मेरी क्या गलती थी कि मैं उससे बहुत प्यार करती थी या ये कि मैंने उसके सिवा कभी किसी और के बारे में सोचा नहीं, या ये कि मैं कभी रिश्तों में स्वार्थी नहीं हुई, या ये कि मैं औरों की तरह मतलबी नहीं थी या ये कि मैं उस पर बहुत यकीन करती थी। या फिर मैं मां नहीं बन सकती थी ये राज मैंने उसके सामने खोल दिया था, शायद यह गलती थी मेरी। जो अंधा विश्वास जो उस पर था, वो मेरी गलती थी। देखो अगर निभा न सको तो रिश्ते नहीं बनाना चाहिए। आपके इस भद्दे मजाक से कोई टूट जाता है।
—–
प्यार करो तो लड़ना सीखो। ये क्या हुआ कि मां बाप के अगेंस्ट नहीं जा सकते, लड़ नहीं सकते। मां बाप तो तब भी होते हैं जब हम स्टार्टिंग रिलेशन में आते हैं। तब क्यों याद नहीं आते मां-बाप। और अगर मनाया जाए तो वो मानते भी हैं, वो मां-बाप होते हैं कोई जल्लाद नहीं और ना भी माने तो भी हम अपने प्यार के लिए जिद पर तो अड़ सकते हैं। यूं खुद बिना लड़े हार मानकर किसी और को मत तोड़ो यारों, वरना जिंदगी एक कमरे में सिमट कर रह जाती है। पिछले 8 महीने में जानती हूं कि क्या बीती है मेरे ऊपर। नवंबर 2016 से जून 2017 तक।
—–
उसने मेरी तारीफ में हमेशा ये कहा कि तू बहुत सुंदर है…पर यह नहीं कहा कि तू बहुत अच्छी है। उसने हमेशा ये कहा कि तू मस्त लगती है बिल्कुल आइटम की तरह…पर ये नहीं कहा कि तू बहुत मासूम और प्यारी है। मैं ही नहीं समझ सकी कि वो मेरी खूबसूरती को पसंद करता था, मुझे या मेरे दिल को नहीं।
—–
आज मैं अपनी गलतियों पर शर्मिंदा हूं कि ऐसे इंसान से प्यार किया, ऐसा इंसान पर भरोसा किया..पर आज ये समझ नहीं आ रहा कि इतना प्यार लेकर अब जाऊं तो जाऊं कहां। कौन सा बाजार है जहां यादें बेची जाती हैं और सुकून खरीदा जाता है। ऐसी शायद कोई घड़ी है जो वक्त को फिर से 13 साल पीछे ले जाए..पर शायद नहीं वो गलती, जिसे बेपनाह प्यार कहते हैं…अब शायद इस गलती की कोई माफी नहीं है…मेरी कोख तो सूनी थी ही…अब जिंदगी भी सूनी हो चुकी है।

Advertisements

Leave a Reply