love story

मैं जिससे नफरत करती हूं, उसी के साथ मेरी शादी हो रही है – सारिका की प्रेम कहानी

मैं फैमिली को कुछ बोल नहीं पाई। घरवालों ने मेरे लिए इतना कुछ किया है इसलिए मैं उनकी खुशी के लिए मजबूर हो गई। मेरी शादी अगले साल मार्च में फिक्स की गई है। मैं बहुत दुखी रहती हूं। मैं उससे बात भी नहीं करती। क्या होगा, मेरी जिंदगी का, कैसे रहूंगी उसके साथ जिससे मैं इतनी नफरत करती हूं।

मैं मध्य प्रदेश से सारिका हूं। मेरी कहानी अजीब है दोस्तों। जिस इनसान से मैंने पहले बेइंतहा प्यार किया, फिर उससे उतनी ही नफरत मुझे हो गई और किस्मत आज ऐसे मोड़ पर ले आई है कि मेरी शादी उसी इनसान से होने जा रही है। कहते हैं कि सच्ची मोहब्बत मिलती नहीं लेकिन मुझे तो सच्ची मोहब्बत और सच्ची नफरत दोनों मिलने जा रही है।

sarika love story
—–
मैं अपनी कहानी शुरू करती हूं। मेरी फैमिली से उस लड़के की फैमिली की रिश्तेदारी है। वो मेरे जीजा का भाई है। नवंबर 2015 में हम दोनों की दोस्ती हुई। उसी ने मुझे प्रपोज किया और मैंने फैमिली के बारे में सोचकर मना कर दिया। फिर उसी नवंबर में कुछ दिनों बाद उसकी छोटी बहन की शादी थी। हम लोग वहां मिले थे तो उसने फिर मुझे प्रपोज किया और मुझे बहुत अटेंशन दिया।
——
वापस आकर न जाने क्यूं मुझे वो अच्छा लगा और वो मेरे ख्यालों से जा ही नहीं रहा था। मैंने वहां से वापस आने के दो दिन बाद रिलेशनशिप के लिए हां कर दी। हम दोनों खुश थे। ऐसा लगा जैसे हम दोनों के बीच प्यार हो गया। एक महीने बाद एक लड़की का कॉल आया और उसने बहुत बुरा भला कहा। उसने बताया कि वो उसकी गर्लफ्रेंड है। उसने मुझे अपने बीएफ को छोड़ देने को कहा।
—–
ये बताने के लिए जब मैंने बीएफ को कॉल किया तो पता चला कि वो उस वक्त अपनी उसी जीएफ के साथ था। मैं यह जानकर भी शॉक्ड रह गई कि जब उस लड़की ने मुझे फोन किया था तब भी मेरा बीएफ उसके साथ ही बैठा था। मैं टूट सी गई थी कि जिसको मैंने चाहा उसने ऐसा किया मेरे साथ।
——-
फिर दो दिन बाद उसने मुझे सॉरी बोला और कहा कि कभी अब ऐसा नहीं होगा, मैं उसे छोड़ दूंगा पर बार-बार मेरे माफ करने के बाद वो उससे मिलता रहा। एक दिन फिर मुझे उस लड़की का कॉल आया और उसने कहा कि चली जाओ उसकी लाइफ से, क्यों हमारे बीच में आ रही हो।
——–
मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था। मैं बस रोना चाहती थी। उसके बाद हम दोनों का ब्रेक अप हो गया। मैं उससे बहुत नफरत करने लगी लेकिन दो साल बाद मेरी जिंदगी ने अजब मोड़ ले लिया है। मेरी फैमिली ने उस लड़के के साथ मेरी शादी फिक्स कर दी है और मैं कुछ बोल नहीं पाई।
——
मैं इतनी कोशिश करती हूं कि उस बात को भूल जाऊं लेकिन भूल नहीं पाती। जिस इनसान के लिए मैंने खुद को इतना दर्द दिया, वो मुझे कभी समझेगा या नहीं, पता नहीं आगे क्या होगा? उसने मुझे इतना हर्ट किया है, यह मैं कैसे भूल जाऊं। अब कहता है कि पुरानी जीएफ से उसकी बात नहीं होती लेकिन नफरत हो गई है मुझे उससे। अगर मैं सबकुछ भूल भी जाऊं तो क्या वो अपनी पुरानी जीएफ को भूल पाएगा, समझ पाएगा मुझे कि मैंने उसके लिए कितनी तकलीफ सहन की है, जैसे मैं मर सी गई हूं।
——
क्या मुझे उस इनसान से शादी करनी चाहिए जिसने मुझे पहले धोखा दिया है और जिसकी वजह से खुद को इतनी चोट पहुंचाई, इतना रोई। मैं कैसे रहूंगी उसके साथ? ऐसे इनसान से कैसे शादी कर सकती हूं जिसने मुझे हमेशा सिर्फ धोखा दिया है?
——
मैं फैमिली को कुछ बोल नहीं पाई। घरवालों ने मेरे लिए इतना कुछ किया है इसलिए मैं उनकी खुशी के लिए मजबूर हो गई। मेरी शादी अगले साल मार्च में फिक्स की गई है। मैं बहुत दुखी रहती हूं। मैं उससे बात भी नहीं करती। क्या होगा, मेरी जिंदगी का, कैसे रहूंगी उसके साथ जिससे मैं इतनी नफरत करती हूं।
——–

Advertisements

Leave a Reply