rehan love story

निगार से मुझे मोहब्बत हुई लेकिन मारिया भी मेरी जिंदगी में आई – रेहान की लव स्टोरी

मैं पटना से रेहान हूं। मैं 24 साल का हूं। सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहा हूं। मेरी जीएफ निगार के पापा और मेरे पापा दोनों दोस्त थे। वे हमारे पड़ोस में रहते थे। निगार को बचपना से जानता था। हम दोनों बचपस में खूब लड़ते थे। जब हम बड़े हुए तो वो मुझे अच्छी लगने लगी। अब उसे तंग करना, चिढाना और अच्छा लगता था। एक दिन मैंने निगार को प्रपोज कर दिया तो वो शरमा गई।

उसको देखना, उससे बात करना, उसकी हेल्प करना मेरी आदत सी हो गई थी। फिर उसने भी मेरे प्यार को एक्सेप्ट कर लिया। 2007 में हम दोनों लवर बने थे। सबकुछ ठीक चल रहा था। मैं अपनी लाइफ से बहुत खुश था और वो भी। हम दोनों को एक दूसरे के सिवा कुछ दिखता ही नहीं था। वो मुझे अपना हबी और मैं उसे अपनी वाइफ कहता था। हम दोनों ने बच्चे का नाम भी सोच लिया था, उसने मुझे बहुत प्यार दिया।
rehan love story
फरवरी 2010 में वे पटना से दिल्ली चली गई। मैं उससे अलग होने के बाद बहुत रोता था। जाते जाते उसने मुझे गले लगाते हुए कहा कि रोना मत, मैं जा रही हूं इसका मतलब यह नहीं हमारा प्यार खत्म हो गया, मैं कभी कभी आऊंगी, तुम अच्छे से खुश रहना। फिर वो चली गई। पीछे छोड़ गई यादें और मेरी आंखों में आंसू। मेरे घर का हर कोना, हर दीवार में उसकी यादें थी जो मुझे बहुत तड़पाती थी, मैं बहुत रोता था।

उस समय मेरे पास फोन नहीं था। मैं घर के फोन पर उससे कभी कभी बात कर लिया करता था। मैं फोन पर रो देता तो वो मुझे रोने नहीं देती थी। हमलोग अब सिर्फ दूर रहकर फोन पर बात करते थे। दूर होकर भी एक दूसरे के लिए जीते रहे और हम दोनों ने कभी किसी और को लाइफ में आने नहीं दिया।

2014 के नवंबर में मैं उससे मिलने दिल्ली गया। वो नई दिल्ली स्टेशन मुझे लेने आई। उसे देखकर मेरे दिल की धड़कन तेज हो गई। मैं तो उसे देखता ही रह गया। चार दिन दिल्ली में हम दोनों दिनभर बाहर घूमते फिरते रहे। दिल्ली में उसके साथ बिताया पल मेरी लाइफ के सबसे खूबसूरत पल हैं। मैं वापस पटना आ गया। फोन पर हम बातचीत करते रहे। वैसे कहते हैं कि हर शुरू होने वाली चीज का कभी न कभी अंत होता है, हमारे प्यार का भी एक दिन अंत हो गया।

2016 के मई में उसने मुझे छोड़ दिया। उसकी शादी का रिश्ता आया और पापा से बात करने की वो हिम्मत नहीं कर पाई। उसने अपनी अम्मी से बात की हम दोनों के बारे में पर उसकी अम्मी बोली कि मैं कुछ नहीं कर सकती, तुम पापा से बात करो..और वो बात नहीं कर पाई। मैंने अपने घर में सबसे बात की, सबको यह रिश्ता मंजूर हो गया लेकिन उसने मुझे यह कहकर छोड़ दिया कि अब हमारा कुछ नहीं हो सकता, भूल जाओ मुझे और ये समझकर जी लेना कि निगार मर गई।

उसने कहा कि मुझे फोन कभी मत करना और ना ही मैसेज करना। उसने मेरा नंबर ह्वाट्सऐप से लेकर हर जगह ब्लॉक कर दिया। उसने अपना एफबी बंद कर दिया। उस दिन मेरी लाइफ का सबसे बुरा वक्त था और मैं अकेला था। कोई नहीं था मुझे संभालने वाला, मैं हार गया था, टूट गया था। जिंदगी बहुत बोरिंग लग रही थी। जीने का दिल नहीं करता था। ये दुनिया अच्छी ही नहीं लगती थी। मैं बिल्कुल अकेला रहता था। किसी से कोई बात नहीं करता था, खाना भी ठीक से नहीं खाता था।

फिर मैंने खुद को संभाला, गिर गिर कर खड़ा हुआ। ये बदलाव बहुत दर्दनाक था। मैं खुद को बदल रहा था और मैं सबके सामने खुश रहने की कोशिश करता था। अपने आपको बिजी रखता था। एक दिन मैंने फेसबुक खोला तो मेरे हर पोस्ट पर एक अजनबी लड़की मारिया का कमेंट था। वो लड़की मेरे फ्रेंडलिस्ट में नहीं थी। फिर उसका रिक्वेस्ट आया तो मैंने एक्सेप्ट कर लिया। फिर हम दोनों बात करने लगे। वो मेरा पास्ट जानना चाहती थी। मैंने उसे सब बता दिया। उसने भी बताया मुझे अपना पास्ट।

मारिया से बात करके दर्द थोड़ा कम हो जाता था। उसके बात करने के तरीके से लगता था कि ये लड़की शायद निगार ही है…मैंने कितनी बार उसे बोला कि तुम निगार ही हो क्योंकि उसके बात करने का तरीका मुझे पता था, पर वो निगार का नाम सुनते ही गुस्सा हो जाती थी और बोलती थी कि आप मुझे फेक समझते हैं। मैंने मारिया से पिक मांगी तो उसने पिक भेजी और कहा कि ये मैं हूं पर मेरा दिल हमेशा यही कहता था कि मारिया निगार ही है।

मारिया से मैं दिल बहलाने के लिए बातें किया करता था। उससे पर्सनल बातें भी कर लेता था और वो भी करती थी। अप्रैल 2017 में निगार को भी मैंने एफबी पर देखा। वह फिर से एफबी पर आ गई थी। उसे मैसेज न करने की बहुत कोशिश की लेकिन मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उसे मैसेज कर दिया। उसका भी रिप्लाई आया, कैसे हो, ये सब पूछने लगी। फिर पूछने लगी कि सिंगल हो या कोई है तो मैंने उसे मारिया के बारे में बता दिया कि वो मेरी नई जीएफ है। निगार ने जवाब दिया कि अच्छा है फिर। मैं निगार और मारिया से एफबी पर बात किया करता था।

मारिया को मैंने कहा कि मेरी जीएफ बन जाओ कुछ दिन के लिए क्योंकि निगार को दिखाना था और जलाना था। मैंने मारिया को कहा कि निगार का मैसेज आए तो कह देना कि हम दोनों बीएफ जीएफ हैं। एक दिन निगार ने मुझे मैसेज किया और बोली कि मुझे पता चल गया कि तुम्हारे मारिया के साथ रिलेशन हैं, खुश रहो..यह बोलकर निगार चली गई। मैंने मारिया से बातों-बातों में कहा कि निगार धोखेबाज है और उसने मुझे धोखा दिया, मुझे निगार से अब कोई मतलब नहीं है, मैं उसे भूल चुका हूं।

इसके बाद निगार से जब बातें हुईं तो वो बहुत गुस्से में बोल रही थी कि तुमने मुझे धोखेबाज क्यों कहा, मारिया को क्यों कहा ऐसा, क्यों मेरा मजाक उड़ाया…और भी बहुत बोली वो। मैं बस सुनता रहा, कुछ नहीं बोला। मैंने इसके बाद मारिया से पूछा कि उसने निगार को धोखेबाज वाली बात क्यों बता दी तो मारिया ने कहा कि गलती से वो मैसेज निगार के पास सेंड हो गया था। इसके बाद मुझे मारिया पर गुस्सा आया और मैंने उसे बात करनी बंद कर दी। मारिया भी मेरी लाइफ से चली गई। वो अब फेसबुक पर ऑनलाइन नहीं आती थी।

मैं निगार के बिना नहीं रह पाता था इसलिए उसे मैसेज कर देता था पर वो भी रिप्लाई नहीं देती थी और वो बोलती थी कि मैं तुम्हें कभी माफ नहीं करूंगी, तुमने मेरा मजाक बनाया है किसी के सामने, तुमको मुझसे प्रॉब्लम थी तो मुझसे बोलते, मैंने धोखा दिया तो मुझसे बोलते ये सब। वो गुस्सा थी फिर भी मैं उसे मैसेज करता था क्योंकि उसके लिए मेरे दिल में अजीब फीलिंग है। धीरे धीरे वो भी बात करने लगी।

एक दिन बात करते करते उसने कहा कि चलो आज मैं तुमको एक राज की बात बताती हूं। मैंने कहा कि बोलो तो उसने कहा कि मारिया मैं ही थी, तुमसे दूर रहकर भी हमेशा तुम्हारे पास थी, मैं तुम्हें अकेला नहीं छोड़ना चाहती थी इसलिए फेक आईडी बनाकर तुमसे बात करती रही। ये सब सुनकर मैं शॉक्ड रह गया। मेरा दिल हमेशा कहता था कि मारिया ही निगाार है।

मैं मन ही मन सोचने लगा कि ये सब ड्रामा करने की क्या जरूरत थी उसे जब वो ही थी तो फिर ड्रामा क्यों किया इतना पर मैंने उसे कुछ भी नहीं बोला। एक वर्ड भी नहीं। मुझे पता है कि उसने गलत किया फिर भी मैंने कुछ नहीं कहा उसे। उससे अब भी बात हो जाती है पर पहले जैसा नहीं, कभी कभी पुराने दिन को हम दोनों मिलकर याद कर लेते हैं। कभी हंसी मजाक कर लेते हैं, कभी कभी एक दूसरे की केयर कर लेते हैं, कभी कभी गुस्सा भी कर लेते हैं लेकिन पहले जैसा नहीं हो सकता कुछ भी…हम कभी मिल नहीं सकते, ये हम दोनों को पता है।

कमेंट्स यहां लिखें-

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.